Jharkhand has become the capital of mob lynching these figures are giving its testimony


Image Source: INDIA TV
मुब लिंचिंग की राधिधान बान चका ये प्रेदेस

In the state of Jharkhand, many people have been murdered in the hands of the mob. राज्य में जोबाटन्त्र के हैं है। If you look at the statistics of mob lynching, there were 46 incidents in the state between 2016 and 2021. But this year, these events happened.

इस वर्ष मुबलिंचिंग की आ चुकी है है डोर्जोन ज़ेशुणें

2022 की बात करेन तो मुब्ध हैविण की एक डोजा वार्दात समें आ चुकी हैन. जाहीर है, राज्य में आसी अधियाँ का बदस्तूर सिलसिला चला आा रहा है. अभी है ही में 6 अक्तुर को को डोक्टर को भोमिया प्रधान्ड के बोकारो गोमिया गाउन में धावाइया गोन में दाज़ों ने गाउन के है 45 साल के शक्ष के शक्स में एमरान असारी की पैटकर हैट कर है। गाउन वालोन का अगुण था की एस शॖक्स का गाउन में भोगी धर्म की एक महीला से नाजयज र्ष्टीटे थे. इस वरदाट को लेकर गाउन अवर के अधिकार के लागान में सम्प्राडाइक तथाना की सैटी बान गी. To control the situation, more than 300 policemen were deployed and Section 144 was applied. 11 people were sent to prison.

दियन बाताकर टिन मेंडी को पीता, जबरन मुल-मुत्र पिलाया

Before this, in October, 22-year-old Ejaz Khan, a resident of Gumla, was beaten to death by a mob in the village of Doomartoli Basti. मारे गाई यूवाण पर चथ्तिसगार् में बक्री चॉराने का अभुण था. অত্যাপান কির্তা প্র্তা প্র্তা প্র্যান ক্র্যান ক্র্য কার্য ক্র্যাত इन चार्य को जबरन मल-मूत्र पिलाया अवर अर्म लोहे की गर्म चड़ो से दागा. The next day, the police admitted all four of them to the hospital.

The government passed the bill, but the governor returned it

The Jharkhand government passed an anti-mob lynching bill in the assembly in December last year to curb mob lynching incidents, but last March the governor returned the bill to the government with some technical objections. अद्धियोजियों के भाष्टी के बाद यह बिल सकरा दुबारा पास कराइगी, तब गवेवरेट की नुद्वारी के बाद यह कानून का रूप ले पाइगा.

मुब लिंचिंग बिल में उम्र काइड का प्रविसोंग

In this bill, there is a provision for life imprisonment and a fine of five to 25 lakh rupees if convicted of death in mob lynching. अलिजान क का जर्माने की राशी से जर्माने की राशी जिया जाइल्गा का जर्माने की राशि. Even if a person is slightly injured in mob violence, the accused will be imprisoned for one to three years or a fine of one lakh to three lakh rupees and in case of serious injury, one to 10 years of imprisonment or three to ten lakh rupees जुर्माने का प्रविष्टी है.

Latest India News





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.