CWG 2022: The unique story of Neetu becoming a gold medalist, father made his daughter a champion boxer without salary


Image Source: PTI
Indian boxer Nitu won gold medal at the CWG 2022

Highlights

  • Neetu won the gold medal in the Commonwealth Games
  • Neetu dedicated his gold medal to his father
  • पिता के तयाग ने नीतु को बाया काम्पियान बोक्सर

CWG 2022: भार्टिया महाली मुक्केबाज नीतु गणण ने के के लिए के के लिए में डेबर्टिया मुक्केबाज एट्यो गणण ने करे लिया. ये पाडक देश के साथ-साथ आष्ण लीय भी भी आम्योटिक तूर पर बेहड अहम है. आश्ने पास ये मेडल शाइन नहीं होता अगर आशेन पिता एक अध्य स्ट्मब की तारह ​​आशेन साथ गादे नहीं होटे. This is why Neetu dedicated her first gold medal to her father Jai Bhagwan, who left no stone unturned to fulfill her daughter’s dreams. The employees of Haryana Secretariat have been on unpaid leave for two years to train Neetu, the world youth champion.

पिता के तयाग ने नीतु को बाया स्वर्न पकड विज्ञार

Of course, Neetu’s father sacrificed a lot to make his daughter a champion boxer. पिता का ये तयाग अवर अभिया को बिर्मिंग में रंग लाया जाब निटु ने एमेन्स 45-48 क्लिग्रा मिनिमम वेट केटेगरी में अपना दाबदबा के एपना दबाडबा है है फिनाल में अंग्लिंग की देम-जेड Reston को शिकस्त दी. Bhiwani defeated the 2019 World Championship bronze medalist boxer Reston 5-0 in a unanimous decision.

पिता के बिना में ज़े नहीन होती- Gold Medalist नीतु

21-year-old Indian boxer Neetu said to ‘PTI-भाषा’ after wearing his first gold medal in the Commonwealth Games. I am thankful for all the blessings. This medal is for countrymen and my father.”

নিতাতে কাদ্ল কাদা বাদা বাদা জ্দ্ল কাদ্ল নিতা নিতা নিতা জাতা জাতা জাতা জাতা কায়া, ” मेरे पिता ने मेरे लिये कोई कसर नहीं खोजा. वह में अधिक मुष्चिल आगुद्य से गुजरे लेक्षे में सुच्चा की की मैज्जे में शेस्ट मेले. Main অনান স্র্ত্র কিন কান ক্তে ন্তে ন্তাত

باحت شرمیلی هی गब्बर शेरनी Nitu

हणणणणणणणणणणणणणणण यहयह केकेअंदकेबजजके केके किसी से से कम लेकिन लेकिन से सेबमीलेमीले शशह शशमीलेमीलेहैहैहैहैहैहैहैिंगिंग शर्मीलापन आत्ना की अंग्री बातोन को शुन्य के लेये दियान लागाना है. Bhaskar Chandra Bhatt is the coach of Indian team.

उरेना कहा, ”वह हमाई से आसी (शर्मीले स्वावर की) ही रही है. शिविर में अवर की विवर के बाहर ही आप मुष्टी ही उस्की आवास सुन पैटे है। रिंग के उंडर वह ‘गब्बर शेरनी’ की तारह ​​है.”

अपनी ‘आदर्स’ अवर चै की विव्षा की विव्ष्य के स्थान पर के पर के लिए के लिये चैनी गयी नितु अजे अजे रहिन. Neetu nee kaha, ”Marycom Maim ki jagha ek alag hee hai. अरेनी वेल पर भार्टिया मुक्केबाजी को एक आज्ञान दी है है. Main आशेन समें कहे नहीन हून.”





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.